काव्य किसे कहते हैं। परिभाषा, भेद और गुण

काव्य – Kavya in Hindi Grammar   काव्य का अर्थ : – ‘तददोषौ शब्दार्थौ सगुणवणलंकृति पुनः क्वापी।’   संस्कृत आचार्य मम्मट ने यह काव्य लक्षण दिया। आचार्य ने शब्द और अर्थ की को काव्य माना। ये शब्द और अर्थ दोनों अदोषौ अर्थात दोष रहित हों, सगुण अर्थात ओज, माधुर्य और प्रसाद तीनों गुणों से युक्त हो …

काव्य किसे कहते हैं। परिभाषा, भेद और गुण Read More »